Click here for Myspace Layouts

सोमवार, 22 फ़रवरी 2016

माता-पिता की वन्दना

माँ और पिता पर कुछ पंक्तियाँ आपके बीच निवेदित करता हूँ..
जरूर पढियेगा...
**********
माता-पिता बड़े ही जतन से, प्यार से, विभिन्न प्रकार के झंझटों से जुझते हुए अपने सामर्थ्य के अनुसार अपने बच्चे को पालते हैं, पोषते हैं, उन्हें शिक्षा देते हैं इस उम्मीद के साथ कि एक दिन हमारा बच्चा हमारे परिवार का, हमारे समाज का, हमारे देश का नाम सारे जगत में रौशन करेगा....
एक अच्छा इंसान बनेगा...
देश का सच्चा नागरिक बनेगा..
********
माता-पिता बच्चों के जीवन और भविष्य के निर्माता हैं...
माता-पिता के बिना बच्चों का जीवन नीरस है...

मुझे नहीं मालूम कि किनकी माँ जीवित हैं और किन्होंने माँ को खो दिया है.
पर मेरा व्यक्तिगत मत ये है कि
जिनकी माँ जीवित हैं, जिनके पिता जीवित हैं
वो दुनियाँ के सबसे सम्पन्न लोग हैं...
वो दुनियाँ के सबसे अमीर लोग हैं...
वो दुनियाँ के सबसे धनाढ्य लोग हैं...

********

एक मिनट के लिए बचपन में लौटियेगा..
याद कीजियेगा..
जब हम बहुत छोटे थे,
माँ की गोद में थे,
माँ का स्तनपान करते थे
तब माँ का एक स्तन मुँह में लेकर
हमने उस माँ को
और दुसरे स्तन पर
अपने छोटे-छोटे पैरों से
ना-जाने कितनी बार मारा,
पर उस माँ ने
हमें दुध पिलाना बंद नहीं किया.

लात खाकर भोजन देने की शक्ति उस परमपिता परमेश्वर ने दुनियाँ में यदि किसी को दी है
वो सिर्फ उस माँ को दी है..
माँ के अलावा ये ताकत किसी के पास नहीं है..

याद कीजियेगा...
उन दिनों में जब हम चौकों में,
रसोई में बैठकर खाना खाया करते थे
और माँ खाना बनाती थी..
उस वक्त थाली पर बैठकर
हमनें जब भी इधर-उधर देखा
तो माँ समझ गई
और उसने नमक का डब्बा
हमारी तरफ सरका दिया..
हमारे बिना बोले समझनेवाली वो माँ
जब हम खो देते हैं
वो माँ हमें बहुत याद आती है..

वो माँ जो हमारे परीक्षा देते जाते वक्त
दही की कटोरी लेकर,
शगुन बनकर
आकर खड़ी हो जाती थी,
उसे हम खो देते हैं
वो माँ हमें बहुत याद आती है..

*****
रमेश शोज की चार पंक्तियाँ ....

बहुत रोते हैं लेकिन दामन हमारा नम नहीं होता,
इन आँखों के बरसने का कोई मौसम नहीं होता..
मैं अपने दुश्मनों के बीच भी महफूज रहता हूँ,
मेरी माँ की दुआओं का खजाना कम नहीं होता..

स्वामीनाथ पांडे की तीन पंक्तियाँ
जरा गौर कीजियेगा
स्वामीनाथ पांडे ने तीन पंक्तियों को आधार बनाकर एक उपन्यास लिख दिया....

उसने लिखा...

एक विधवा माँ थी,
उसके दो बेटे थे..
एक बेटा नीचेवाले माले पर रहता था,
दुसरा बेटा उपरवाले माले पर रहता था..
विधवा माँ 15 दिन एक बेटे के यहाँ खाना खाती थी,
विधवा माँ 15 दिन दुसरे बेटे के यहाँ खाना खाती थी,
पर ये उस विधवा माँ का दुर्भाग्य था कि
साल में जो जो महीनें 31 दिनों के होते थे
उस एक दिन
उस विधवा माँ को उपवास रखना पड़ता था..

9 महीनें पेट में रखनेवाली माँ
जब एक जवान बेटे को एक दिन भारी लगने लगी तब उस बेटे को समझाने के लिए

कवि ओम व्यास "ओम" ने कुछ पंक्तियाँ माँ के लिए लिखी...
पढियेगा..
यात्रा कीजियेगा मेरे साथ..

माँ, माँ संवेदना है, भावना है, एहसास है,
माँ, माँ संवेदना है, भावना है, एहसास है,
माँ, माँ जीवन के फूलों में खुशबू का वास है ..
माँ, माँ रोते हुए बच्चे का खुशनुमा पलना है,
माँ, माँ मरूस्थल में नदी या
मीठा-सा झरना है

माँ, माँ लोरी है, गीत है, प्यारी सी थाप है,
माँ पूजा की थाली है, मंत्रों का जाप है..

माँ आँखों का सिसकता हुआ किनारा है,
माँ गालों पर पप्पी है, ममता की धारा है..

माँ झुलसते दिनों में कोयल की बोली है,
माँ मेहदी है, कुमकुम है, सिंदुर है, रोली है

माँ कलम है, दवात है, स्याही है,
माँ परमात्मा की स्वंयम एक गवाही है..

माँ त्याग है, तपस्या है, सेवा है,
माँ फूँक से ठंढ़ा किया हुआ कलेवा है..

माँ अनुृष्ठान है, साधना है, जीवन का हवन है,
माँ  जिन्दगी के मोहल्ले में आत्मा का भवन है..

माँ चुड़ी वाले हाथों की मजबुत कंधों का नाम है,
माँ काशी है, कावा है और चारों धाम है..

माँ चिंता है, याद है, हिचकी है,
माँ बच्चे की चोट पर सिसकी है..

माँ चुल्हा-धुँआ-रोटी और हाथों का छाला है,
माँ जिंदगी की करूआहट में अमृत का प्याला है...

माँ पृथ्वी है, जगत है, धूरी है,
माँ बिना इस सृृष्टि की कल्पना अधुरी है..

तो माँ की ये कथा अनादि है, ये अध्याय नहीं है,
और माँ का जीवन में कोई पर्याय नहीं है..
माँ का जीवन में कोई पर्याय नहीं है..

तो माँ का महत्व दुनियाँ में कम हो नहीं सकता,
और माँ जैसा दुनियाँ में कुछ हो नहीं सकता.

तो मैं कविता की ये पंक्तियाँ माँ के नाम करता हूँ,
मैं दुनियाँ की सब माताओं को प्रणाम करता हूँ... ����

जहाँ माँ, संतान के अस्तित्व की धूरी है
वहीं पिता के बिना माँ की जिन्दगी अधुरी है.

किसी ने शेर कहा....

पके फल पेड़ों से रिश्ता तोड़ जाते हैं,
और अपाहिज बाप हो जाए तो बेटे छोड़ जाते हैं..

पिता जब पुत्र को बाजार ले जाता है
और जेब में 50 रूपये होते हैं
और बच्चा 200 रूपये के सामान को खरीदने की जिद्द करता है
उस वक्त
एक पिता की विवशता और बच्चे की जिद्द..
इसके बीच के एहसास में खड़े होकर...

कवि ओम व्यास "ओम" की कविता की कुछ
पंक्तियाँ पढ़िए...

पिता क्या होता है..

पिता जीवन है, संबल है, शक्ति है,
पिता सृष्टि के निर्माण की अभिव्यक्ति है..

पिता अंगुली पकड़े बच्चे का सहारा है,
पिता कभी कुछ खट्टा, कभी खारा है..

पिता पालन है, पोषण है, परिवार का अनुशासन है,
पिता धौंस से चलनेवाला प्रेम का प्रशासन है

पिता रोटी है, कपड़ा है, मकान है,
पिता छोटे से परिदें का बड़ा आसमान है

पिता अप्रदर्शित, अनंत प्यार है,
पिता है तो बच्चों को इंतजार है...

पिता से ही बच्चों के ढ़ेर सारे सपने हैं,
पिता है तो बाजार के सब खिलौने अपने हैं..

पिता से परिवार में प्रतिपल राग है,
पिता से ही माँ की बिंदी और सुहाग है..

पिता परमात्मा की जगत के प्रति आसक्ति है,
पिता गृहस्थ-आश्रम में उच्च स्थिति की भक्ति है..

पिता अपनी इच्छाओं का हनन और परिवार की पूर्ति है,
पिता रक्त में दिए हुए संस्कारों की मूर्ति है..

पिता एक जीवन को जीवन का दान है,
पिता पिता दुनियाँ दिखाने का एहसान है,

पिता सुरक्षा है अगर सिर पर हाथ है,
पिता नहीं तो जीवन अनाथ है

तो पिता से बड़ा तुम अपना नाम करो
पिता का अपमान नहीं, उनपर अभिमान करो..

क्यूँकि माँ-बाप की कमी को कोई बाँट नहीं सकता,
और ईश्वर भी उनके आशीषों को काट नहीं सकता..

विश्व में किसी भी देवता का स्थान दूजा है,
माँ-बाप की सेवा ही सबसे बड़ी पूजा है..

विश्व में किसी भी तीर्थ की यात्राएं व्यर्थ है,
यदि बेटे के होते माँ-बाप असमर्थ है..

वो खुशनसीब हैं, माँ-बाप जिनके साथ होते हैं,
क्यूँकि, माँ-बाप के आशीषों के हाथ हजारों हाथ होते हैं....

कोई टिप्पणी नहीं: